नरसिंहगढ वन्यप्राणी अभ्यारण्य

संरक्षित क्षेत्र का नाम : वन्‍यप्राणी अभ्यारण्‍य न‍रसिंहगढ
जिले का नाम : राजगढ
वनमंडल का नाम : सामान्‍य वनमण्‍डल राजगढ
जी.पी.एस. : अक्षांश : 23 डिग्री 36 मिनिट 57.2 सेकिंड से 23 डिग्री 42 मिनिट 38.8 सेकिंड उत्तर
देशांतर : 72 डिग्री 2 मिनिट 1.92 सेकिंड से 77 डिग्री 8 मिनिट 31.6 सेकिंड पूर्व
क्षेत्रफल : 5719 हेक्टेयर । समुद्र सतह से उंचाई - 462.07 मी. से 567.08 मी. (एम.एस.एल.)
जैव विविधता संरक्षण का इतिहास :

यह अभयारण्‍य नरसिंहगढ़ अभयारण्‍य के नाम से जाना जाता है। अभयारण्‍य का मुख्‍य आकर्षण का केन्‍द्र चिड़ीखो तालाब है जिसका स्‍वरूप चिडि़या के आकार का है। इस तालाब को न‍रसिंहगढ़ के महाराजा श्री विक्रमसिंह द्वारा सन् 1935 में बनाया गया था। तालाब का क्षेत्रफल 22 हेक्‍टेयर है व इसका केचमेंट एरिया 28 वर्ग किलोमीटर है। तालाब चारों ओर शाक, बेलाऐं एवं वृक्षों से आच्‍छादित पहाडियों से घिरा है। इन्‍ही पहाडियों में विभिन्‍न प्रकार के वन्‍यप्राणी निवास करते है जो अक्‍सर भ्रमण के दौरान नजर आते रहते है। गर्मी में यह एकमात्र बड़ा जल स्‍त्रोत है तथा तालाब कभी भी नहीं सूखता है इसी कारण यहां लगभग तीन किलोमीटर के आसपास के जंगली जानवर रोज सुबह व शाम के समय पानी पीने आते है व यहीं से उन्‍हे तालाब के किनारे विचरण करते देखे जा सकते है।

अभयारण्‍य का क्षेत्र पूर्व में नरसिंहगढ़ स्‍टेट का एक भाग होते हुए नरसिंहगढ़ व राजगढ़ स्‍टेट का हंटिंग रिजर्व था। सन् 1956 में मध्‍य भारत सरकार द्वारा संरक्षित वन घोषित किया गया। मध्‍यप्रदेश में 1971 में शिकार पर प्रतिबंध लगा व 1974 में यह क्षेत्र अभयारण्‍य के रूप में घोषित किया गया।

क्रमांक प्रकार प्रजातियों की संख्या
1. वृक्ष, झाडियां, बेलें लगभग 60 प्रजातियां
2. घास लगभग 18 प्रजातियां
3. जलीय पौधे लगभग 11 प्रजातियां
4. पक्षी लगभग 175 प्रजातियां (50 प्रवासी पक्षी)

 

लेंडस्केप का विवरण :    
वन का प्रकार : अभ्यारण्‍य में शुष्‍क पर्णपाती मिश्रित प्रकार का वन है।  
वनस्पति एवं वन्यप्राणी :

अभयारण्‍य में शुष्‍क पर्णपाती मिश्रित प्रकार का वन है। चैम्पियन व सेठ के वर्गीकरण के आधार पर MP-18/ type II-5-DS/1 dry deciduous scrub forest हैं। क्षेत्र के अंदर कृत्रिम रूप से उगाया गया सागौन प्रजाति का रोपण 2 जगह (छाबड़, देवगढ़) मौजूद है। वन की मुख्‍य प्रजाति खेर, करघई, धावड़ा, लेंडिया, साज, तेन्‍दू, घोंट, बेर, सालर, गुर्जन, बहेड़ा, आंवला, महुआ, सीताफल, दूधी, करोंदा, मकोई लेंटाना हैं। क्राउन डेंसिटी 00 से 0.7 हैं। वनों की साइट क्‍वालिटी IVB व V है। जंगली जानवरों में मुख्‍य रूप से तेंदुआ, लकड़बग्‍गा, चिंकारा, चीतल, नीलगाय, सांभर, जंगली सुअर, मोर, मगर, खरगोश तथा माइग्रेटरी बर्ड आदि है।

प्रमुख पौधे

करघई / कल्‍दी धावड़ा तेन्‍दु, पलास, दूधी, करौंदा, लैंटाना, बरगद, जामून, आम, बहेड़ा, नीम, महुआ, अचार, बॉस, अर्जून, कुल्‍लु, गुर्जन, ईमली, चंदन, बबूल, घटबेर / घोंट, मकोई, चिरोटा, पीपल, सागौन, सीताफल, सलई, साज, गूलर, लैंडिया / कलिया सेजा, अमलतास, ऑवला, खजूर, दूब घास, महानीम, बैर, कांस, खैर, कैथा / कबीट, बेल, अस्‍ठा, केम / फलदु जंगली तुलसी।

प्रमुख जंगली जानवर

क्रमांक प्रचालित नाम अंग्रेजी नाम वैज्ञानिक नाम
1. तेंदुआ Panther Panthera Pardus
2. लोमडी Indian Fox Vulpes bengalensis
3. चौसिंगा Fourhorned antelope Tetracerus quadricornis
4. चीतल Spoted deer Axix axix
5. नीलगाय Blue bull Boselaphas tragocamlus
6. सांभर Samber Cervus unicolor
7. खरगोश Blacknaped hare Lepus nigricollis
8. जंगली सुअर Wild boar Sus scrofa
9. गिलहरी Palm spuirrel Funambulus pennanti
10. चिंकारा Indian gazelle Gazella gazelle
11. भेडकी ए काकर Barking deer Muntiacus muntjak
12. लकडबग्घा ए जरख Striped Hyena Hyaena hyaena
13. सेही Indian porcupine Hystrix indica
14. नेवला Common mangoose  Herpestes edwardsi
15. काला हिरण Black buck Antilope cervicapra
16. गोह Monitor lozard Varanus bengalensis
17. कोबरा ए नाग Naja Naja naja
18. क्रेत Krait Krait
19. अजगर Rock pithen Phython moluras
20. पेंगोलिन Bajra kit Menis crassicaudata
21. लंगूर Common langur  Presbytis entellus
22. बंदर Rhesus macaque   Macaca mulatta

 

 
रहवास का विवरण : वन्‍यवाणी अभयारण्‍य नरसिंहगढ़ अंतर्गत वन्‍यप्राणियों के प्राकृति रहवास स्थित हैं, तथा वन्‍यप्राणियों हेतु पेयजल आदि उचित मात्रा में उपलब्‍ध है।  
पर्यटन जानकारी :
  • पर्यटन प्रवेश द्वार का विवरण :देवगढ गेट
  • पर्यटन जोन : चिड़ीखो तालाब, वनविश्रामगृह चिड़ीखो, इन्‍टरप्रटेशन सेन्‍टर आदि
  • पर्यटन धारण क्षमता : लगभग 150 – 200 पर्यटक
  • ठहरने की व्यवस्था :
    ठहरने की व्यवस्था कमरों की संख्या बिस्तरों की संख्या
    चिडीखो वन विश्राम गृह 02 02 डबलबेड
  • सड़क मार्ग :
    • भोपाल से नरसिंहगढ 75 कि.मी. (बस)
    • इंदौर से ब्यावरा - नरसिंहगढ 210 कि.मी. (ट्रेन एवं बस)
    • ग्वालियर से ब्यावरा - नरसिंहगढ 340 कि.मी. (ट्रेन एवं बस)
    • शिवपुरी से ब्यावरा - नरसिंहगढ 230 कि.मी. (बस)
    •  उज्जैन से ब्यावरा - नरसिंहगढ 210 कि.मी. (ट्रेन एवं बस)
    • कोटा से ब्यावरा - नरसिंहगढ 260 कि.मी. (बस)
    • जयपुर से ब्यावरा - नरसिंहगढ 511 कि.मी. (बस)
  • वायु मार्ग : मुख्‍यालय से भोपाल 120 कि0मी0
    • भोपाल एयरपोर्ट – 85 कि.मी.
    • इन्‍दौर एयरपोर्ट – 210 कि.मी.
    • कोटा एयरपोर्ट – 260 कि.मी.

 

वेबसाइट संबंधी विवरण : नहींं है।
क्षेत्र की विशिष्टता :

पक्षी दर्शन :- अभ्‍यारण्‍य में लगभग 175 पक्षी प्रजातियां पाई जाती है जिसमें म.प्र. का राज्‍यपक्षी दूधराज यहॉ-वहॉ उड़ते दिखाई देता है। यहां कई विशेष पक्षी प्रजातियां जैसे रोड़ स्‍पफाउल, प्‍लमहैडेड पैराकीट, हरियल आदि आमतौर पर मिलती है। ठंड में अभयारण्‍य में स्थित जलाशयों में विभिन्‍न प्रवासी पक्षी प्रजातियां जैसे ब्राह्मणी डक, पिनटेल, कॉन टील, कॉब डक आदि अठखेलियां करते देखे जा सकते है।

नेचर ट्रेल :- अभयारण्‍य में लगभग 30 प्रकार के वन्‍य पशु एवं 190 प्रकार की वनस्‍पतियां पाई जाती है। अभयारण्‍य में बनी ट्रेल में भ्रमण करते समय सांभर, चीतल, जंगली सुअर, सियार इत्‍यादि जीव दिखाई देते है। वहां तेन्‍दुए के पदचिन्‍ह व खरोंच के निशान भी मिलते है। विभिन्‍न मौसमों में फलने-फूलने वाली वनस्‍पति प्रजातियां जैसे पलाश, खैर, महुआ, साज, अमलतास इत्‍यादि भी प्रमुखता से पाई जाती है। तीन अलग-अलग पेड़ो की एक दूसरे से जुड़ी डाले पर्यटकों को आश्‍चर्य में डाल देती है।

जंगल सफारी :- अभयारण्‍य में भ्रमण हेतु स्‍वयं के वाहन से जंगल सफारी की भी सुविधा है। जंगल सफारी द्वारा संपूर्ण अभयारण्‍य में पाये जाने वाले वन्‍यजीवों एवं पक्षियों को देखने का आनंद उठाया जा सकता है।

नौका भ्रमण :- अभयारण्‍य के चिड़ीखो जलाशय में पैडल बोड द्वारा सूर्योदय व सूर्यास्‍त के विहंगम दृश्‍य का आनंद लिया जा सकता है तथा प्रवासी पक्षियों को भी निहारा जा सकता है।

सम्पर्क सूत्र :

पता – वन्‍यप्राणी अभयारण्‍य नरसिंहगढ़, सामान्‍य वनमण्‍डल राजगढ़ (ब्‍यावरा) म.प्र.

फोन – 07375-245870 अधीक्षक कार्यालय, 07372-255007 वनमण्‍डल कार्यालय

ई-मेल – dfotrajgarh@mp.gov.in​, ​ronarsinghgarh@mpforest.org, wlsngh@gmail.com

संपर्क करें
  • कार्यालय अ.प्र.मु.व.सं. (कक्ष-सूचना प्रौद्योगिकी),आधार- तल खंड ‘डी’, सतपुडा भवन, भोपाल- 462004
  • दूरभाष : +91 (0755) 2674302
  • फैक्स: +91 0755-2555480