संयुक्त वन प्रबंधन

परिचय :

राष्ट्रीय वन नीति के अनुसरण में जन भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए वन विभाग ने संयुक्त वन प्रबंधन की अवधारणा को अंगीकार किया है। वन सुरक्षा एवं वन विकास के समस्त कार्यों में जन भागीदारी को सुनिश्चित करने के लिये मध्य प्रदेश शासन द्वारा 22 अक्टूबर, 2001 को संशोधित संकल्प पारित किया गया है, जिसमें निम्नानुसार तीन प्रकार की संयुक्त वन प्रबंधन समितियों के गठन का प्रावधान है -

  • वन सुरक्षा समिति : सघन वनक्षेत्रों में वनखंड सीमा के पांच किलोमीटर दूरी तक स्थित ग्रामों में आने वाली समितियों को वन सुरक्षा समिति कहा जाता है। यह ऐसे वन क्षेत्र हैं जिनसे नियमित वानिकी कार्यों के अन्तर्गत वन उत्पाद प्राप्त किये जाते है।
  • ग्राम वन समिति : बिगड़े वनक्षेत्रों में वनखंड सीमा से पांच किलोमीटर दूरी तक स्थित ग्रामों में आने वाली समितियों को ग्राम वन समिति कहा जाता है। यह ऐसे वन क्षेत्र हैं जो जैविक दबाव के कारण विरल हो गये हैं तथा जिनका पुनर्वनीकरण पुनः स्थापन किया जाना आवश्यक है।

  • ईको विकास समिति : राष्ट्रीय उद्यान तथा अभ्यारण्य क्षेत्रों में स्थित समस्त ग्राम, उनकी बाहरी सीमा से पांच किलोमीटर की परिधि में स्थित ऐसे ग्राम जिनका प्रभाव संरक्षित क्षेत्र प्रबंधन के अनुसार संरक्षित क्षेत्र के प्रबंध पर पड़ता है तथा जहां बफर क्षेत्र चिन्हित है, वहां बफर क्षेत्र के समस्त ग्रामों में वनों के प्रबंध में जन-सहयोग प्राप्त करने हेतु बनाई गई समिति को ईको विकास समिति कहा जाता है।

संकल्प के अनुसार वोट देने का अधिकार रखने वाले समस्त ग्रामीण आम सभा के सदस्य होंगे। राज्य शासन द्वारा जारी समसंख्यक अधिसूचना दिनांक 14.01.08 द्वारा दिनांक 22 अक्टूबर, 2001 के संकल्प की कंडिका 5.2 को संशोधित करते हुए अध्यक्ष पद के एक तिहाई पद महिलाओं हेतु आरक्षित किये गये हैं। साथ ही अध्यक्ष / उपाध्यक्ष में से एक पद पर महिला का होना अनिवार्य किया गया है। अनुसूचित जाति, जनजाति व पिछड़ा वर्ग के सदस्यों का अनुपात ग्राम सभा में यथासंभव इनकी जनसंख्या के अनुपात में होगा तथा कार्यकारिणी में न्यूनतम 33 प्रतिशत महिलाएं होंगी।

वन समितियों की कुल संख्या 15,228 है, जिनके द्वारा 66874 वर्ग कि.मी. वन क्षेत्रों का प्रबंधन किया जा रहा है, जिसका विवरण तालिका में दर्शित है -

संयुक्त वन प्रबंधन समितियों का विवरण
समिति का प्रकार समितियों की संख्या प्रबंधित क्षेत्र (वर्ग किमी)
ग्राम वन समिति 9650 37268
वन सुरक्षा समिति 4747 25904
ईको विकास समिति 831 3702
योग - 15228 66874

संयुक्त वन प्रबंधन समितियों का सशक्तिकरण :

  • मध्यप्रदेश ग्राम वन नियम, 2015 - म.प्र. राजपत्र 4 जून, 2015 में "मध्यप्रदेश ग्राम वन नियम, 2015" का प्रकाशन हुआ है, इसके अनुसार अधिसूचित ग्राम वनोंं के प्रबंधन में ग्राम वन समितियों की भूमिका को सशक्त एवं प्रभावी बनाया गया है ।
  • मध्यप्रदेश संरक्षित वन नियम, 2015 - म.प्र. राजपत्र 4 जून, 2015 में "मध्यप्रदेश संरक्षित वन नियम, 2015" का प्रकाशन हुआ है, इसके अनुसार संरक्षित वनोंं के प्रबंधन में ग्राम वन समितियों की भूमिका को प्रभावी बनाया गया है ।

लाभांश वितरण :

  • बांंस का लाभांश - प्रदेश में बांंस कटाई में संलग्न श्रमिकों को बांस विदोहन से प्राप्त शुद्ध लाभ का शत-प्रतिशत वितरण किया जाता है। वर्ष 2014-15 में बांस के लाभांश का वितरण प्रदेश के 03 जिलों (बालाघाट, बैतूल एवं सिवनी) में किया गया है ।
  • काष्ठ का लाभांश - काष्ठ लाभांश के शुद्ध लाभ का 10 प्रतिशत संयुक्त वन प्रबंधन समितियों को प्रदाय किया जाता है । वर्ष 2014-15 में काष्ठ के लाभांश का वितरण प्रदेश के 07 जिलों (बालाघाट, बैतूल, हरदा, डिंडोरी, मण्डला, खण्डडवा एवं सिवनी) में किया गया है । लाभांश वितरण तालिका में दर्शित है -
वितरित लाभांश विवरण (राशि करोड में)
विदोहन वर्ष लाभांश प्रदाय वर्ष काष्ठ लाभांश बांंस लाभांश कुल लाभांश
2010-11 2011-12 22.04 0.46 22.50
2011-12 2012-13 24.13 8.76 32.89
2012-13 2013-14 22.92 14.94 37.86
2013-14 2014-15 20.43 18.27 38.70
2014-15 2015-16 26.59 18.81 45.46

राज्य वन विकास अभिकरण :

राज्य वन विकास अभिकरण का गठन 19.04.2010 को किया गया था, जिसका उद्देश्य संयुक्त वन प्रबंध समितियों के माध्यम से बिगड़े वन क्षेत्रों में तथा रिक्त वन क्षेत्रों में वृक्षारोपण का कार्य कराना है। राज्य वन विकास अभिकरण द्वारा राष्ट्रीय वनीकरण योजना का क्रियान्वयन किया जाता है। विगत पांच वर्षों में राष्ट्रीय वनीकरण योजना के अंतर्गत कराये गये वृक्षारोपण का विवरण तालिका में दर्शित है।
राष्ट्रीय वनीकरण योजनांतर्गत वर्षवार वृक्षारोपण
वर्ष स्वीकृत राशि (लाख रू. में) कराये गये कार्य (हे. में)
क्षेत्र तैयारी रोपण कार्य
2011-12 2253.39 7105 16645
2012-13 914.54 4925 7105
2013-14 2210.21 4890 4925
2014-15 2100.00 4786 4890
2015-16 1789.64 3655 4786

संपर्क करें
  • कार्यालय अ.प्र.मु.व.सं. (कक्ष-सूचना प्रौद्योगिकी),आधार- तल खंड ‘डी’, सतपुडा भवन, भोपाल- 462004
  • दूरभाष : +91 (0755) 2674302
  • फैक्स: +91 0755-2555480